प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन योजनाएं शुरू कीं – प्रधान मंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (PMSBY) और पेंशन अटल योजना (एपीवाई) – 9 मई, 2015 को आम लोगों को सामाजिक सुरक्षा के लिए आधार प्रदान करने के उद्देश्य से। इस राशि में से, प्रधान मंत्री जीवन ज्योति बिमा योजना (PMJJBY) 1 जून, 2015 से प्रभावी रही है।

यह एक उपयोगी बीमा योजना है, जिसकी समीक्षा की जा सकती है जो नागरिकों को केवल 330 रुपये प्रति वर्ष प्रीमियम का भुगतान करके पर्याप्त सामाजिक सुरक्षा प्रदान करती है।

प्रीमियम का भुगतान करने के लिए भी बहुत आरामदायक है। यह बीमा प्रीमियम सीधे ग्राहक के बैंक खाते से डेबिट है। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बिमा योजना इस देश में बीमा और बीमा जागरूकता में वृद्धि की दिशा में एक प्रगतिशील कदम है।

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के माध्यम से केंद्र सरकार ने समाज के सभी वर्गों को बीमा सुरक्षा (कवर) के तहत लाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। वर्तमान में, देश की कुल आबादी के 80-90 प्रतिशत लोगों को किसी भी प्रकार का बीमा कवर उपलब्ध नहीं है।

इस योजना के तहत, एक वर्ष के लिए 2 लाख रुपये की जीवन बीमा सुरक्षा किसी भी कारण से मृत्यु का भुगतान किया जाता है। 18-50 वर्ष के आयु वर्ग के बचत खाता धारक जीवन बीमा का लाभ उठा सकते हैं जो इस वर्ष प्रति वर्ष 330 रुपये का प्रीमियम भरकर अपडेट किया जा सकता है।

यहां तक ​​कि अगर किसी के पास एक या अलग बैंकों में एक से अधिक बचत खाता है, तो वह PMJBY का उपयोग कर सकता है लेकिन इस मामले में वह केवल एक बचत खाते के साथ इस योजना में शामिल हो सकता है।

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना को चालू करने की प्रक्रिया:-

SMS के माध्यम से –

इस योजना के लिए आवेदन कर सकने योग्य ग्राहकों को एसएमएस भेजा जाता है जिसपर उन्हे अंग्रेजी में PMJJBY<स्पेस> ‘Y’ लिख कर अपनी प्रतिक्रिया देनी होती है। अगर ग्राहक PMJJBY<स्पेस> ‘Y’ लिख कर भेजता है तो इस योजना में वह शामिल हो जाता है और उसे एक अन्य एसएमएस पावती के तौर पर यह बताने के लिए भेजा जाता है कि उसे इस योजना में सम्मिलित कर लिया गया है।

अपने सुचारू संचालन के लिए यह योजना बैंकिंग प्रणाली पर निर्भर करती है। नामित व्यक्ति का नाम/ उसका आवेदक से संबंध एवं जन्म की तारीख इत्यादि विवरण बचत खाते में उपलब्ध जानकारियों द्वारा यह स्कीम खुद ही ले लेती है।

बैंक के रिकार्ड में नामित व्यक्ति के बारे में सूचना नहीं मिलने पर पीएमजेजेबीवाई के लिए किए गये आवेदन को संसाधित नहीं किया जाता।

पॉलिसी के लिए सालाना प्रीमियम का भुगतान बचत खाते से ऑटो डेबिट मोड के माध्यम से किया जाता है और अगर किसी वजह से प्रीमियम का भुगतान नहीं हो पाता तो योजना के सदस्य का बीमा कवर समाप्त हो जाता है।

नेट बैंकिंग के माध्यम से –

ग्राहक नेट बैंकिंग द्वारा लॉग इन करने के बाद ‘इंश्योरेंस’ टैब पर क्लिक कर सकते हैं। और उसके बाद उन्हें पीएमजेजेबीवाई का चयन करना होगा और साथ ही उन्हें उस खाते का भी चुनाव करना होगा जिसके माध्यम से प्रीमियम भुगतान किया जाना है। साथ ही, वे मौजूदा बचत खाता पद के नामित व्यक्ति को बनाए रख सकते हैं या इच्छानुसार किसी नए व्यक्ति को नामित कर सकते हैं।

उन्हें यह भी घोषणा करनी होगी कि उनका स्वास्थ्य अच्छा है और इसके लिए उन्हें एक स्व-हस्ताक्षरित प्रमाणपत्र भी जमा करना होगा। इस प्रक्रिया के पूरा हो जाने के बाद सिस्टम पीएमजेजेबीवाई की पूरी जानकारी प्रदर्शित करेगा। फिर ‘कन्फर्म’ के बटन पर क्लिक करने के बाद उन्हें फॉर्म जमा होने की रसीद एक यूनीक संदर्भ संख्या के रूप में मिलेगी जिसे डाउनलोड करके भविष्य में संदर्भ के लिए संभाल कर रखा जा सकता है।

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना का प्रीमियम:-

PMJJBY का साल-दर-साल नवीनीकरण किया जा सकता है। इस योजना के सदस्य को 330 रुपए सालाना प्रीमियम का भुगतान करना होता है जिसका मतलब है उसे एक रुपए से भी कम प्रतिदिन एवं 27.5 रुपए मासिक जमा करना होता है।

यह राशि एक किस्त में ‘ऑटो डेबिट’ सुविधा के माध्यम से खाता धारक के बचत बैंक खाते से काट लिया जाता है। इसलिए, ग्राहकों के लिए यह आवश्यक है कि वे अपने संबंधित बैंक खाते में आवश्यक राशि जमा करके रखें एवं पॉलसी का नवीनीककरण हर वर्ष कराएं।

इस योजना के तहत वार्षिक किस्त प्रत्येक वार्षिक कवरेज अवधि के दौरान 31 मई से पहले भुगतान किया जाता है। इस तारीख से पहले अगर वार्षिक किस्त जमा नहीं कराई जा सकी तो पॉलिसी का नवीनीकरण पूरे वार्षिक प्रीमियम का एकमुश्त भुगतान अपने अच्छे स्वास्थ्य की स्व-घोषणा पत्र के साथ जमा कराने के द्वारा कराया जा सकता है।

अपनी सुविधा के लिए इस योजना की अवधि के दौरान हर वर्ष ऑटो-डेबिट होने का अधिदेश योजना के सदस्य एक बार में ही जारी कर सकते हैं।

पात्रता की शर्तें:-

इस योजना के लिए आवेदन भारत के वे सभी नागरिक कर सकते हैं जिनकी आयु 18 साल से 50 साल के बीच हो एवं उनका खाता इस योजना के लिए सुझाए गए किसी भी बैंक में हो और उसमें कम से कम इतनी रकम जमा हो जो इस योजना के प्रीमियम 330 रुपए के भुगतान के लिए पर्याप्त हो।

साथ ही आवेदक के पास आधार कार्ड होना चाहिए जो उस बैंक खाते के लिए उम्मीदवार के मुख्य केवाईसी (ग्राहक की जानकारी) के तौर पर माना जाएगा। आवेदक के लिए यह आवश्यक है कि वे नामित व्यक्ति का नाम एवं उसके साथ रिश्ते का विवरण उपलब्ध कराए। इसके अलावा आवेदक को विधिवत भरा हुआ आवेदन फार्म अपने अच्छे स्वास्थ्य की स्व-घोषणा पत्र जमा कराना होगा।

मृत्यु दावा: –

इस योजना के सदस्य की मृत्यु हो जाने पर खाते के उम्मीदवार द्वारा नामित व्यक्ति इस योजना के तहत मृत्यु दावा राशि 2 लाख रूपए पाने का हकदार होगा।

इस योजना के लिए मास्टर पॉलिसी धारक-

यह उन बैंकों के सहयोग के माध्यम से प्रबंधित और पेश किया गया है जिन्होंने इस योजना में भाग लिया, जिसमें लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (LIC) और अन्य जीवन बीमा कंपनियां शामिल हैं, जो मूल नीति धारक हैं। LIC / चयनित बीमा कंपनी एक सरल और ग्राहक -मित्र प्रशासन को लागू करेगी और भाग लेने वाले बैंक से परामर्श करके पूरा करने का दावा करेगी।

बीमा कंपनियां प्रशासनिक और दावों को पूरा करने की एक प्रक्रिया को लागू करेंगी जो भाग लेने के लिए बैंकों के साथ परामर्श करने के लिए सरल और ग्राहक के अनुकूल हैं। वास्तव में, ग्राहकों के लिए, भाग लेने वाले बैंकों को अपनी स्वयं की नीति के अनुसार इस योजना को लागू करने के लिए किसी भी जीवन बीमा कंपनी को शामिल करने का निर्णय लेना चाहिए।

वे विकल्प के अनुसार वार्षिक प्रीमियम किस्त में खाता धारकों से खाता धारकों को बहाल करने की जिम्मेदारी ग्रहण करेंगे। वे प्रीमियम प्राप्त होने के तुरंत बाद हर साल बीमा कंपनी को भेजेंगे।

बीमा की समाप्ति:-

जीवन बीमा कवर निम्न किसी भी स्थिति में या तो समाप्त हो सकती है या इसमें कटौती की जा सकती है-
खाता धारक की आयु 55 वर्ष पूरी हो जाने पर।
अगर वह अपना बैंक खाता बंद कर दे या उसके बैंक खाते में बीमा योजना चालू रखने के लिए जमा कराने लायक पर्याप्त रकम ना हो।
अगर उसने एक से अधिक खातों के माध्यम से कवर प्राप्त किया हुआ हो तो कवर 2 लाख रुपये तक ही सीमित हो जाएगा और प्रीमियम जब्त कर ली जाएगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.